राजस्थान संभाग

 राजस्थान संभाग 

राजस्थान संभाग

राजस्थान में 7 सम्भाग है

    राज्य पुनर्गठन आयोग की सिफाारिष पर 1नम्बर 1956 को राजस्थान का पुनर्गठन किया गया । अजमेर को मेरवाडा क्षेत्र राजस्थान में मिला दिया गया और इस प्रकार राजय का वर्तमान स्वरूप् अस्तित्व मंे आया है अजमेर रास्थान का 26 वां जिला बना। अप्रेल 1962 में सुखाडिया सरकार ने संभागीय व्यवस्था को समाप्त कर दिया। 26 जनवरी 1987 को हरिदेव जोषी सरकार ने राज्य को 6 सम्भागों जयपुर, अजमेर, जोधपुर,उदयपुर, कोआ व बीकानेर में बाॅटकर संभागीय व्यवस्था पुन- कायम की ।
वर्तमान में राजय में 7 संभाग है भरतपुर को सातवां सम्भाग बनाने की अधुसूचना 4 जून 2005 को जारी की गई। नवगठित भरतपुर संीााग में दो जिले भरतपुर एवं धौलपुर, जयपुर संभाग में तथा दो जिल - कारौली एवं सवाई माधोपुर कोटा सम्भाग से लिए गए है। 
 सम्भाग स्तर पर प्रषासन तंत्र का मुखिया संभागीय आयुक्त होता है जो अपने अधीनस्थ जिलों के प्रषासन पर नियन्त्रण एवं उनके कार्यो में समन्वय स्थापित करने का कार्य करता है।

1. जयपुर    -  5 जिले - जयपुर, सीकर, झुझुनूं,  अलवर, दोसा

2. जोधपुर   - 6 जिले - जोधपुर, पानी, जालौर, सिरोही, बाडंमेर, जैसलमेर

3. बीकानेर - 4 जिले - बीकानेर, चूरू,गंगानगर, हनुमानगढ

4. उदयपुर  - 6 जिले - उदयपुर, डंूगरपुर, बांसवाडा, राजसंमद, चित्तौडगंढ़, प्रतापगढ़

5. अजमेर    - 4 जिले - अजमेर, नागौर, भीलवाडा, टौंक

6. कोटा    - 4 जिले - कोटा,बूंदी,झालावाड, बाराॅ

7. भरतपुर  -4 जिले - भरतपुर, धौलपुर, कारौली, सवाई माधौपुर


सर्वाधिक जनसंख्या, धनत्व, अनुसूचित जाति जनसंख्या, साक्षरता - जयपुर सम्भाग

सार्वधिक क्षेत्रफल वाला सम्भाग          - जोधपुर सम्भाग

सबसे कब नदियों वाला सम्भाग         - बीकानेर सम्भाग

सर्वाधिक लिगांनुपात सम्भाग         - उदयपुर सम्भाग

सार्वधिक न्यूनतम जनसंख्या सम्भाग - कोटा सम्भाग

न्यूनतम क्षेत्रफल सम्भाग                 - भरतपुर सम्भाग

हरियाणा, उत्तरप्रदेश व मध्यप्रदेश तीनों का समीवर्ती सम्भाग है - भरतपुर संभाग
मध्यप्रदेश से 4 सम्भागों की सीमा लगती है।